फेसबुक से चुदाई तक का सफर

Indian sex stories, hindi sex stories, desi chudai story, sex kahani, chudai ki kahani,

हैलो दोस्तों, मैं सहिल है,और में एक बार फिर से एक नहीं मस्त कहानी लेकर आप सब के सामने आया हूं। मैं पिछली कहानी में भाभीजी के साथ पुणे में मजे कर के फिर से मुंबई आ गया था।

भाभीजी को बहोत ही ज्यादा मिस कर रहा था और प्रॉब्लम यह थी अब वह पुणे नहीं बलके दिल्ली चली गई थी। खैर जैसे तैसे दिन निकल रहै,थे और मैं फेसबुक पर ऐसे ही एक दिन सर्फ़ कर रहा था कि मुझे मेरे पेज पर कमेंट आया, मैंने उसको लाइक किया। उसके बाद से मेरे हर पोस्ट पर लाइक आने लगा। मैंने जब देखा तो लाइक करने वाले का नाम नजमा था। मैंने कमेंट में थैंक्स कहा थोड़ी देर बाद उसका मैसेज मुझे इनबॉक्स में आया। उसने मुझे कहा बहुत प्यारी है आपकी पोस्ट बहुत अच्छी लगी।

मैंने थैंक्स कहा और इधर उधर की बातें हुई, उसने अपना नाम नजमा बताया कहा कि वह एक ट्यूशन टीचर है पुणे में। मैं तो खुश हुआ, मैंने उसकी पेज पे जाके देखा कोई पिक तो नहीं थी लेकिन उसका बर्थ डेट पता चल गया जो दो दिन बाद ही था।

मेने मन में कहा की मौका अच्छा हे, मैंने अपने पेज पर उसको विश किया वह बहोत खुश हुई। फिर मेरे सरे दोस्तों ने भी उसे बर्थ डे विष किया। फिर हम रेगुलर बात करने लगे, नंबर शेयर किया बात अब धीरे धीरे व्हाट्सअप पर भी होने लगी।

एक दिन मैंने जस्ट बात बात में उसे उसका एक पिक मांगा तो उस ने सेंड किया। मैं देखता ही रह गया। वह बहोत ही हॉट थी। उसका फिगर ३४-३४-३६ का फिगर था। उस ने साड़ी पहनी थी वह भी हल्की सी पिंक कलर की थी जिसमें उसका क्लीवेज साफ दिख रहा था। मैंने जमकर उसकी तारीफ की तो वह बहोत ही ज्यादा खुश हुई और मैंने उसकी उम्र पूछी तो उसने कहा ३५ साल। मुझे यकीन नहीं हुआ ३५ की इतनी जबर्दस्त आइटम बहुत अच्छे से मेंटेन किया था उसने अपने आप को। फिर पता चला की उसकी शादी कम उमर में हो गयी थी और अब तो डायवोर्स भी हो गया था। जब २५ की थी तब से अकेली है। मैंने और पिक्स मांगे जो उसने सेंड किए। वह बहुत सुंदर लग रही थी।

मेने फिर उसे कहा की आपकी उमर ३५ की नहीं बल्की २४ की लग रही हो। और आपके ब्रेस्ट तो कमाल के हैं और यह नवल ऐसे है,की जी करता है यहाँ हाथ लगाऊ। वह शरमा गयी लेकिन कुछ सेकंड में रिप्लाई आया हाथ कैसे लगाओगे? मैं तो यहाँ हूं?

मैंने कहा कोई नही जी मैं वहीं आ जाता हूं पुणे उसमें कौन सी बड़ी बात है। वह मान गई और हमने मिलने का प्लान बनाया। और वह भी उसी के घर पर। सच कहू तो उसके घर वाले सब जयपुर गए थे, लेकिन ट्यूशन की वजह से वह नहीं गई थी, उसने कहा ट्यूशन को वह छुट्टी रखेगी। में उस दिन तो ठीक से सो भी नहीं पाया था और उसी को याद कर के सोचता रहा की में उसे किस तरह से चोदुंगा और किस कीस पोजीशन में उसे पकड के पेलूँगा की जिस से वह मुज से एकदम खुश हो जाये। मुझे उस रात को उसके बारे में सोच सोच के बिल्कुल भी नींद नहीं अ रही थी लेकिन थोड़ी देर बाद जैसे तैसे में सो गया।

मेरी आंख सुबह की उसकी याद के साथ खुली और में उस दिन बहोत ही ज्यादा खुश था क्योंकि में उस दिन मेरी सपनो की रानी को मिलने वाला था। फिर में ने सुबह उठ कर नहाया और फ्रेश हुआ और फिर मेने अपनी पेट पुजा की और नाश्ता किया। बाद में में अपनी बस की टिकट बुक करने के लिए ट्रेवल्स एजंसी में गया और शाम के 4 बजे की पुणे के लिए टिकट बुक कर ली और में फिर से उसके सपने देखने लगा।

मैंने शाम ४ बजे की बस ले ली और पुणे के ट्रेवलिंग शुरू हुई। और फिर मेने उसको मैसेज किया।

मैंने कहा:- हाय।

नजमा ने कहाँ:- मिल गई बस? कहाँ हो आप?

मैंने कहा:- हाँ में बस में हूं, अब तक मुंबई में ही हूं। पर यकीन नहीं होता मैं आपसे मिलने वाला हूं। यह मुझे एक सपने जैसा लग रहा है।

नजमा ने कहा:- क्या बात है यकीन तो मुझे भी नहीं होता कि इतने साल बाद में ऐसी किसी से मिलूंगी। बड़ी हिम्मत करके हाँ कहाँ है तुम को मिलने के लिए।

मैंने कहा:- थैंक यू सो मच डोंट वरी में हिम्मत और आप की ट्रस्ट की कदर करता हूं।

नजमा ने कहा:- थैंक्यू

मैंने कहा:- मवाह।

मैंने कहा:- सॉरी मैं रोक नहीं पाया और आपके लिप्स पर किस किया।

नजमा ने कहा:- कोई बात नहीं वसीम मुझे भी बहोत अच्छा लगा।

मैं समझ गया इस को भी आज यही सब चाहिए और मैंने कहा

मैंने कहा:- आपने बहुत टाइम से सेक्स नहीं किया होगा ना?

नजमा ने कहा:- इसीलिए बहुत प्यासी हूं। आखिर कब तक उंगली या मूली काम आएगी?

इतना कह कर उसने कहा अब वो ट्यूशन ले रही है। तुम घर पहुंच जाना जल्दी।

मैं ८:३० को उस की सोसाइटी में पहुंच गया। और उसको कॉल किया। उसने कहा की बी विंग मैं फिफ्थ फ्लोर पर आ जाओ। मैंने पहुंचकर डोर बेल बजाई उसने दरवाजा खोला मानो जन्नत का दरवाजा खुला हो। लाल कलर की साड़ी में कमाल लग रही थी। उस पर तो क्लीवेज और नवल दिख ही रहा था। उसने कहा अब अंदर भी आओ। फिर में अंदर गया और उसे फ्लावर दिए जो मैं उसके लिए प्यार से लाया था। वह देख कर खुश हुई। उस को फुल काफी पसंद थे। उसने कहा और उसने मुझे हग कीया। वह क्या मस्त मोमेंट था। उस के सॉफ्ट बूब्स मेरे चेस्ट पर प्रेस हुए लेकिन वह अलग हुई और उसने दरवाजा बंद कर दीया।

हम सोफे पर बैठे और बातें करने लगे। उसकी सारी का पल्लू बार बार नीचे हो रहा था। उसको पता था मैं घुर कर देख रहा हूं, इधर मेरा हथियार भी टेंट बना जा रहा था जिसे वह भी घुर रही थी, थोड़ी देर बाद हमने डिनर किया और उसने कहा तुम बेड रूम में जाओ ही बातें करते हैं, मैं आती हूं।

मेने बेड रूम का डोर ओपन किया तो देखा तो देखता ही रह गया उसने मस्त से सजाया हुआ था। मैं बेड पर बैठ गया और थोड़ी देर बाद वह आई। और मेरे पास आकर बैठ गई। मैंने उसको हग किया और हमने किस करना चालू किया। वह अच्छा रिस्पांस दे रही थी। हम दोनों एक दूसरे की बेक को सहला रहै,थे और हम उसी पोज में बेड पर लेट गए। हमारा किस १५-२० मिनट तक चला। उसकी साड़ी का पल्लू गिर चुका था और उसके बूब्स मानो ब्लाउज से आजाद होने के लिए मचल रहै,थे। मैं उनको घुरे जा रहा था।

नजमा ने कहा:- ऐसे क्या देख रहै,हो?

मैंने कहा:- आप बहुत खूबसूरत हो आप और आप के यह बूब्स तो कमाल के हैं। मेने आज तक किसी औरत के बूब्स इतने सुंदर नही देखे हे।

नजमा ने कहा:- सब तुम्हारा है जान। बस मुझे प्यार चाहिए।

मैंने कहा:- हाँ जान प्यार भी मिलेगा और खुशी भी मिलेगी और प्यार का दर्द भी मिलेगा। ऐसा कहते कहते ही मैंने उस के बूब्स को प्रेस करना चालू किया और वह मोन करने लगी। मैंने उसके ब्लाउज को खोल दिया उसके पेटीकोट को भी खोल दिया। अब वह सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी। उसने पिंक कलर की नेट वाली ब्रा और पेंटी पहनी थी जिसमें निपल और पुसी साफ दिख रहै,थे। उसने कहा कल ही लिए है,तुम जो आने वाले थे। मैंने उस के ब्रा का हुक खोल दिया और उसकी पैंटी भी नीचे ले ली। अब वह बिल्कुल नंगी थी मेरे सामने। उसने मेरे बड़े हुए लंड को पकड़ा और उस की और खींचा और बाहर से ही मेरा लंड को सहलाने लगी। उसने एक एक कर के मेरे सारे कपड़े निकाल दिए। अब हम दोनों नंगे थे, हम 69 पोज में आ गए और एक दुसरे की चूत और लंड को चूसने का मजा लेने लगे…

मैं उसकी चूत में अपनी जबान डाल कर चाटे जा रहा था, और अपनी एक उंगली उसकी पुसी के होल में डालने लगा। दूसरी ओर वह मेरा कॉक चूसे जा रही थी। बहुत मजा आ रहा था मानो छोटा बच्चा लॉलीपॉप चूस रहा हो। वह मेरे कोक को अपनी जबान से पूरा ऊपर से नीचे तक चाट रही थी। तो कभी पूरा मुंह में लेकर चूस लेती थी। उस ने कोक के टोपे को पूरी तरह से चूसा और लिक कीया। कुछ वक्त बाद हम दोनों एक दूसरे पर जड गए और अचानक रूम में सन्नाटा हो गया। हम दोनों बाथ रूम में गए और शावर को चालू कर दीया।

उसने मुझे हक दिया और कहा

नजमा ने कहा:- हाँ जान तुम ने इस रात की बहुत प्यारी शुरुआत की है। मैं बहुत खुश हूं। अभी तो बस एक बार जड़ी हूं। पर पूरी रात ऐसे ही चाहिए ऐसा कह के हम स्मूच करने लगे।

मैंने उसको उठाया और बेड रूम में लेकर आया और उसके बेड पर लेटा दिया। अब मैं उस के सर पर किस करने लगा। धीरे धीरे नीचे सरकता गया और नजमा के जिस्म के हर एक हिस्से को चूमने लगा। जब मैंने उस के नेक पर किस किया वह तीलमिला उठी मानो उसको कोई करंट लगा हो।

उसने मुझे कस के हग किया कुछ देर बाद मैंने फिर से चुमना चालू किया और पूरे जिस्म को चूमा उसकी नाभि, चूत, जांघ पैर वाह क्या मजा आया उसको तड़पता देख कर? मानो मेरे अंदर भी एक करंट से दौड़ गया। अब बारी उसकी थी, नजमा ने भी वैसे ही शुरू किया जैसे मैंने किया। अब ब्लोजॉब दे रही थी, अब वह मेरे पास आकर लेट गई और कहा अब मुझ से नहीं रहा जाता, अब आ जाओ और इस आग को भी बुझा दो।

मैं पोजीशन में आ गया। वहाँ रखी तेल की शीशी से तेल निकाल कर उस की चूत पर डाला ताकि उसको दर्द ना हो, फिर मैंने एक झटका दिया, वह चिल्ला उठी कहने लगी बहुत दर्द हो रहा है।

मैंने कहा बस थोड़ा और मेरी जान। नजमा की सासे बढ़ रही थी। मैंने कोक बाहर निकाला और उस के लिप्स चूमने लगा और फिर से एक झटका दिया। इस बार पूरा कोक अंदर घुस गया और वह चिल्ला उठी। आंखों से पानी आने लगा। मैं उसके होठों को चूम रहा था और मेरा कोक अंदर पेल रहा था।

थोड़ी देर में सब स्टेबल हुआ। अब हीना भी शांत हुई और चुदाई का मजा लेने लगी, वह अब बम उठा उठाकर झटको को ले रही थी। मैं उसके बूब्स को प्रेस कर रहा था तो कभी उसकी बम्स को बजाता। वह पूरे नशे में थी चुदाई के। मैंने तेज ज़टके दिए वह कहने लगी। जान आई लव यू सो मच क्या मस्त लग रहा है। आज औरत होने का पूरा फायदा हुआ… क्या मस्त चुदाई है तेरी जानेमन… में बहुत खुश हुआ। वह कह रही थी अहह ओह हहह ओह हाँ हो हहह ओह हहह ओह हहह जान आय लव यु डियर। मैं तुम्हारी हूं अब सिर्फ तुम्हारी और चोदो मुझे…

मैंने कहा आई लव यू टू नजमा तुम्हें मुझे आज जन्नत दे दी है। बहुत मजा आ रहा है मेरी जान… हम दोनों के आवाज पूरे रुम में गूंज रही थी। थोड़ी देर बाद वो झड़ गई मैंने तो जोर से ज़टके लगाए और कुछ देर बाद में उसके अंदर झड़ गया। मैं नजमा के ऊपर ऐसे ही पड़ा रहा। थोड़ी देर बाद हम फिर से गर्म हो गये और अब हमें डॉगी स्टाइल में, तो वह मेरे पर सवारी करने लगी। इस तरह से हमने रात के ४ बजे तक चुदाई की।

फिर हमारी कब आँख लगी पता नहीं चला ९ बजे मेरी आंख खुली तो हीना मेरे सामने नंगी खड़ी थी। शायद नहा कर आई थी। मेरे पास आई कहा चलो अब तुम नहा लो। मैं नहा कर रेडी हुआ और साथ में ब्रेकफास्ट किया और कुछ देर बाद वहाँ से निकल गए। जब मैं बस में बैठा था तब उसका मैसेज आया उसने मुझे थैंक्स कहा और जल्द मिलने को कहा।

4 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *